Sad Shayari, Ulfat ka yeh dastoor

उल्फत का यह दस्तूर होता है,
जिसे चाहो वही हमसे दूर होता है,
दिल टूट कर बिखरता है इस क़द्र जैसे,
कांच का खिलौना गिरके चूर-चूर होता है!
Ulfat ka yeh dastoor hota hai,
Jisse chaho wahi hamse door hota hai,
Dil toot kar bikharta hai iss kadar jaise,
Kanch ka khilona girke choor choor hota hai.

LEAVE A REPLY