2 Line Hindi Shayari, Nikali thi bina nakab

निकली थी बिना नकाब आज वो घर से
मौसम का दिल मचला लोगोँ ने भूकम्प कह दिया

LEAVE A REPLY